Sunday, July 5, 2020

इष्ट अनिष्ट चिन्तन

वस्तु इष्ट-अनिष्ट नहीं होती, मगर हमारे उसके साथ हमारे interactions कभी उपकारक और कभी अपकारक बनते हैं। जब उपकारक बनते हैं, तो हम ऐसा मानने लगते हैं कि इससे हमारे सम्बन्ध सदा उपकारक ही रहेंगे। जैसे कोई अनित्य वस्तु थोङे ही समय के लिये हमारे पास है, मगर ऐसा प्रतीत होने लगता है कि ये सदा रहेगा। ऐसे हे उपकारक सम्बनध होने पर, इससे मेरे को सदा उपकार होगा, ऐसा प्रतीत होने लगता है। 


और उस वस्तु में इष्टपने की बुद्धि बना लेते हैं, और उससे राग करते हैं। और जो इससे राग या द्वेष करते हैं, उससे भी राग द्वेष करता है। इस वस्तु में राग की वजह से पांच पाप, चार कषाय, इन्द्रिय भोग भी करता है। जबकि उस वस्तु में इष्टपने की मानयता मिथ्या है। पुण्य उदय वशात उस वस्तु के साथ उपकारक सम्बन्ध बन गया। अनादि से अनन्त काल तक कर्म वशात उसी वस्तु से कभी उपकारक और कभी अपकारक सम्बन्ध बन जाता है।


इस दुनिया सब जीवो के अन्य जीवो से कर्म वशात उपकारक/अपकारक सम्बन्ध तो हैं, मगर इष्ट अनिष्ट सम्बन्ध नहीं हैं। कोई जीव दूसरे किसी जीव को सदा उपकार ही करता हो, या अपकार ही करता हो ऐसा कोई सम्बन्ध नहीं है। मगर ऐसी मान्यता मोह वशात है जिसे इष्ट-अनिष्ट बुद्धि कहते हैं।


Saturday, July 4, 2020

सेठ सुदर्शन जी से सीखने योग्य बातें

🌼जब राजा ने सेठ सुदर्शन को मारने की आज्ञा दी, तो सेठ जी ने कोई अपनी तरफ़ से सफ़ाई नहीं दी। रानी का दोष नहीं बताया, मगर समता से ही सब कुछ सहा। अपनी पत्नी और पुत्र के प्रति ममता ने उनको व्याकुल नहीं किया - कि मेरे मरने के बाद उनका क्या होगा?

🌼जब कपिला ने उनसे गलत सम्बन्ध के लिये कहा, तो उन्होने बङी चतुराई से यह कह दिया- कि मैं तो नपुंसक हूं, जिससे कपिला के मन का विकार ही समाप्त हो जाये। और अपने मान की परवाह नहीं की।

🌼पिछले भव में गवाले थे। और सम्यग्दॄष्टी नहीं थे। इस एक ही भव में उन्होने महान पुरूषार्थ से एक आदर्श श्रावक बने, उपसर्गो को सहा, फ़िर मुनि बने और फ़िर उपसर्गो को सहा और पटना से केवलज्ञान प्राप्त किया।

🌼जिस प्रकार से उपसर्ग उन पर रानी और वैश्या ने किये, उनको जीत पाना विरले जीव ही कर सकते हैं।

Thursday, July 2, 2020

कर्तत्व/भोक्तृत्व भाव से मेरा नुकसान

हम देखे कि किस किस प्रकार की कार्यो में मेरा कर्तापना होता है:
👉🏻मैंने सम्पत्ति इकट्ठी करी, दूसरो को समझाया, किताबे लिखी, परिवार पाला, कलायें सीखे, खेल खेले, विषय भोग भोगे, इत्यादि

किस किस प्रकार की कर्ता पने से कषायें होती हैं -
👉🏻’देखो मैने ये ये कार्य किया’ इस प्रकार का मान
👉🏻’देखो, उसे ये भी करना नहीं आता’ - इस प्रकार से दूसरे के प्रति तिरस्कार
👉🏻’उसने यह करना कैसे सीख लिया’ - इस प्रकार से ईर्ष्या
👉🏻’मैं भविष्य में ये करूंगा, ये करना मैं सीखूंगा’ - इस प्रकार का लोभ
👉🏻’जो मुझे करना आता है, वो मुझसे छूट ना जाये’, ’दूसरे मेरे कार्य को तिरस्कार तो नहीं करेंगे’  - इस प्रकार का भय
👉🏻’अगर कोई मेरे कर्तत्व में बाधक आये’ - उसके प्रति क्रोध, भय
👉🏻’हाय मैने ऐसा क्यों कर दिया’ - ऐसा शोक


और ऊपर वाली कषायो से प्रेरित होकर जीव हिंसा, झूठ, चोरी, परिग्रह, कुशील - ये पांच पाप भी करता है।

----------------------

भोक्तृत्व भाव से मेरा नुकसान
ये मैने सुख भोगा, दुख भोगा - इस प्रकार के विकल्प चलते रहते हैं।

सुखद अनुभव से राग, सन्तोष का अनुभव करता है, और दुखद अनुभव के प्रति द्वेष का अनुभव करता है।

किस किस प्रकार की भोक्ता पने से कषायें होती हैं -
👉🏻’देखो मैने ये ये सुख भोगा ’ इस प्रकार का मान
👉🏻’देखो, उसे ये तो सुख मिला ही नहीं’ - इस प्रकार से दूसरे के प्रति तिरस्कार
👉🏻’उसने यह कैसे सुख भोग लिया’ - इस प्रकार से ईर्ष्या
👉🏻’मैं भविष्य में ये भोगूंगा’ - इस प्रकार का लोभ
👉🏻’जो मैं भोगता हूं, वो मुझसे छूट ना जाये’  - इस प्रकार का भय
👉🏻’अगर कोई मेरे सुखद भोक्तृत्व में बाधक आये’ - उसके प्रति क्रोध, भय
👉🏻’हाय मैने ऐसा क्यों दुख भोगा’ - ऐसा शोक

Tuesday, June 16, 2020

धन के बारे में हमारी सोच

👉🏻’यह मेरा है’ यह समझकर उसे बढ़ाने की कोशिश में लगे रहते हैं। उसके लिये हिंसा भी करनी पङती है, झूठ भी बोलना पङता है.. मानसिक तनाव भी होता है.. उससे पाप कमाता है, और कुगतियों में जाता है।
👉उसकी रक्षा में लगा रहता है। चिन्ता करता है। ’कोई चुरा ना ले’- ऐसे भयभीत रहता है। अगर नुकसान हो जाये तो  शोक करता है।
👉’इसको मैने कमाया’ - ऐसा अहंकार करता है। मान करता है। उसके अधिकार के लिये परिवार जनो से झगङा करता है।अपने नियंत्रण में रखना चाह्ता है।
👉धन आने पर विषय भोग में लीन हो जाता है। गुणी जनो के प्रति इसका आदर कम हो जाता है। जितना धन बङता जाता है, इसकी तॄष्णा बङती जाती है।
👉अपने धन को नित्य मानता है। जैसे वह हमेशा इसके साथ रहेगा। मगर पाप का उदय आता है, तो बङे बङे भण्डार भी नष्ट हो जाते हैं, और पुण्य का उदय आता  है तो खाली भण्डार भी एकदम भर जाते हैं।
👉उसे शरण रूप मानता है। कि मुसीबत में काम आयेगा ही। मगर यह नहीं जानता कि तीव्र पाप का उदय हो रखा हुआ धन भी काम नहीं आता, और तीव्र पुण्य का उदय हो तो बिना धन के भी काम हो जाते हैं।
👉’मैने अनन्त बार राजा होकर, सेठ होकर, अरब पति आदि होकर खूब पैसा कमा कमा के छोङ चुका हूं’ इस सत्य को समझकर उससे विरक्त नहीं होता।
👉धन के आधार पर अपने को अपने मित्रो से तुलना करता है। ईर्ष्या करता है।
👉भगवान की पूजा तो बहुत करता है। मगर जैसे वो धन से रहित हैं, ऐसे मैं भी धन रहित हो जाऊं - ऐसी भावना नहीं भाता।
👉जीवन में धन की आवश्यकता जरूर है। लेकिन कितना जरूरी है, और कहां यह हमें नुकसान देता है - यह समझ विकसित करनी जरूरी है।

Saturday, June 13, 2020

संसार मार्ग और मोक्ष मार्ग क्या?

*संसार मार्ग क्या?*
जीव सुख प्राप्त करना चाहता है। मगर गलत समझ से गलत रस्ते पर चलता है। सुख मिलने के बजाय अपने दुखो को बढाने वाले आठ कर्मो को इकट्ठा करता रहता है। यह संसार मार्ग है।

*मोक्षमार्ग क्या?*
सही समझ से, सही रास्ते पर चलकर आठो कर्मो को नाश करते चले जाना मोक्ष मार्ग है।

*गलत रास्ता क्या है?*:
वस्तुओं में इष्ट अनिष्ट कल्पना करना और उससे राग-द्वेष करना और उससे हिंसादि, पंचेन्द्रिय पाप करना।

*गलत समझ:*
ये राग,द्वेष मेरे स्वभाव हैं। अजीव को अपना मानकर - उसमें अच्छा बुरा की कल्पना करना। मोक्ष को अपना लक्ष्य नहीं मानना।

*सही समझ:*
मैं जीव हूं। राग-द्वेष त्याज्य हैं।  मोक्षा ग्रहण करने योग्य है।

*सही रास्ता:*
सम, शम। (सम का मतलब समता, शम का मतलब इन्द्रिय का शमन)

Monday, June 8, 2020

6 Mantras for a solid meditation


  • Do not run away from anything.
  • Do not want to change anything
  • Do not want to achieve anything. 
  • Be at ease with everything. Accept it. 
  • Do not label things as right or wrong. 
  • Change your 'some relationship' to 'no relationship' with everything around

Thursday, June 4, 2020

कैसी भक्ति है मेरी?

दो कैदी थे। २५ साल की सजा थी। जेलर आया और उसने उनके हाल चाल पूछे। पहले कैदी ने कहा कि सब बढिया है बस पानी थोङा खराब है और उसके लिये अच्छे पानी की व्यवस्था कर दी जाये। दूसरे कैदी ने कहा कि उसे जेल में नहीं रहना। और पूछा कि मुझे तरीका बताओ कि मैं कैसे अपनी सजा को कम कर सकता हूं। अब आप ही सोचिये कि कौन सा कैदी जल्दी से जेल से मुक्त होगा?

ऐसी ही भक्त भी दो प्रकार के होते हैं। एक को कुछ कष्ट परेशान करते रहते हैं, और प्रभु के पास जाकर भी वो ही ध्यान आता है।  कहता है कि - हे प्रभु मेरे को ये समस्या खत्म हो जाय, और वो चीज मिल जाये। सही बात है - जो दिमाग में चलता है वही भगवान के पास भी ध्यान आ ही जाता है।

मगर एक दूसरा भक्त है - उसकी समझ विस्तृत है। उसे अपनी अवस्था अनादि से संसार में भटकता हुई समझ में आ चुकी है। द्रव्यकर्म और भावकर्म का चक्र उसे एक चक्रवात के तूफ़ान की तरह दिखाई दे रहा है। आठ कर्म और विषयों की इच्छा उसे भयंकर रोग दिखाई दे रही है। और पूरी दुनिया में एक मोक्ष अवस्था ही सुखदायी दिखाई देती है। अब बताइये ऐसा भक्त जब प्रभु का नाम लेगा तो उसके परिणाम में गजब की शुद्धता क्यों नहीं बनेगी। अब उसकी प्रार्थना का फ़ल चमत्कारिक क्यों नहीं होगा?

संसार से भय होना, मोक्ष की रूचि होना बहुत दुर्लभ है। और वह सच्ची भक्ति का कारण है। इसलिये सच्ची भक्ति भी बहुत दुर्लभ है।